​द गोटुल क्यों ?

The Gotul Academy द गोटुल अकैडमी, आदिवासी समाज के प्रथम शक्तिपीठ परिसर में आपका स्वागत है

गोटुल अकैडमी, कोरबा CGPSC, VYAPAM, SSC, RAILWAY की प्रतियोगी परीक्षाओं के तैयारी के लिए बेहतरीन सुविधाएँ उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है। बिलासपुर जैसे कोचिंग हब से चुनिंदा, अनुभवी शिक्षकों के साथ पुस्तकालय की सुविधा आपको एक ही स्थान मिले तो जाहिर सी बात है  आपको कहीं और जाने की जरूरत नहीं है. Classroom के साथ साथ Test Seriesआप समय समय पर खुद को और तराशने का मौका देती है।    

पुस्तकालय में प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए बेहतरीन पुस्तकों ,पत्रिकाओं, समाचार पत्रों  का संकलन होगा।   यह सुविधा उन प्रतियोगियों के लिए और भी सुविधाजनक और किफायती हो जाती है जिनके पास किताबों के लिए मुश्किल हो जाती है।

 आदिवासी शक्तिपीठ, बुधवारी बाजार कोरबा के हृदय पर स्थित है और द गोटुल अकैडमी भी यहीं है। सर्व सुविधा सम्पन्न परिसर यातायात के कोलाहल से दूर होने के कारण और विशेष हो जाता है।

समय समय पर प्रशासनिक अधिकारियों से रूबरू होने का भी मौका मिलेगा जिससे आपको लक्ष्य प्राप्ति के लिए प्रेरणा मिलेगी।

  • अनुभवी एवं कुशल शिक्षक

  • उच्च गुणवत्ता का पठन सामग्री

  • Updated परीक्षा patterns को ध्यान में रखते हुए टेस्ट सीरीज, साप्ताहिक टेस्ट

  • समसामयिक विषयों पर साप्ताहिक परिचर्चा

  • हमारा विश्वास है कोई कमजोर नहीं होता, बल्कि हालात कमजोर बनाते हैं। हम उन हालातों को सही बनाने की कोशिश करेंगे ताकि वो आपके रास्ते में बाधा न बनें  

  • पुस्तकालय प्रांगण में आप बैठ कर मनचाहे समय तक अध्ययन कर सकते हैं उच्च स्तरीय टेस्ट प्रणाली जिसमें फिलहाल offline टेस्ट की सुविधा उपलब्ध है और शीघ्र ही online test की सुविधा भी उपलब्ध होगी

  • समय मूल्यवान है और हम इसकी अहमियत समझते हैं। इसीलिए हर कोर्स को समय पर पूरा करने पर जोर दिया जाता है।

यहाँ आप अपने सपनों को नए पंख दे सकते हैं। एक शासकीय सेवा में हर कोई जाना चाहता है पर हर कोई जा भी नहीं पाता। कारण अनेक सकते हैं पर उनमें से एक प्रमुख है जो सबसे आम है वो अच्छा मार्गदर्शक मिलना। ये हमारा प्रयास है कि आपके सपनों को इस वजह से न खोने  दें. यहाँ अनुभव और ज्ञान से भरे शिक्षक आपकी मदद के लिए हमेशा तत्पर हैं । साप्ताहिक टेस्ट, समय समय पर विभिन्न विषयों पर परिचर्चा, Group Discussion सीखने समझने की प्रक्रिया को आसान बनाते हैं और आपके आत्मविश्वास को और बढ़ाते हैं.       

गोटुल शिक्षा के प्राचीनतम केंद्रों में से एक हैं जहां युवा दुनिया भर की चुनौतियों से जूझना सीखते हैं ।गोटुल दो शब्दों से मिल कर बना है गो,  यानि शिक्षा, टूल यानि गृह । शिक्षा का केंद्र । गोटुल युवाओं को जीवन यापन के तौर तरीकों से लेकर आत्मरक्षा, संस्कार और प्रकृति दर्शन की शिक्षा देते थे।  प्रकृति के प्रति उनकी अपार श्रद्धा आज भी देखा जा सकता है। आधुनिकता और अन्य समाज के अंधानुकरण में ये दर्शन खोने से लगे हैं ।   अब भले ही आधुनिक समाज में इनकी पहचान खोने लगी है पर आदिवासी समाज यहीं से अपनी शिक्षा आरंभ करते रहे हैं। आधुनिकता के दौर में जहां प्रतियोगी परीक्षाओं  का स्तर बढ़ता ही जा रहा है अगर सही मार्गदर्शन न मिले तो मेहनत के अनुरूप फल मिलना मुश्किल हो सकता है। 

 हमारा प्रयास रहेगा कि हम अपने छात्रों को एक पाठ्यक्रम के साथ एक बेहतरीन माहौल उपलब्ध कराएँ जो निरंतर आगे बढ़ने के लिए उनको प्रेरित करे

​तो आइए उड़ने के लिए तैयार हो जाइए अपने पंखों को विस्तार दीजिए